Army Bharti First Day More Than Five Thousand Candidates Run For Army Recruitment Rally In Agra – आगरा में सेना भर्ती का पहला दिन: ‘अग्निवीर’ बनने के लिए 5170 युवाओं ने लगाई दौड़, 1959 नहीं हुए उपस्थित

Army Bharti First Day More Than Five Thousand Candidates Run For Army Recruitment Rally In Agra – आगरा में सेना भर्ती का पहला दिन: ‘अग्निवीर’ बनने के लिए 5170 युवाओं ने लगाई दौड़, 1959 नहीं हुए उपस्थित


आगरा में 21 दिवसीय सेना भर्ती मंगलवार को सिकंदरा के कीठम स्थित आनंद इंजीनियरिंग कॉलेज पर शुरू हो गई। अग्निपथ सेना भर्ती में आगरा समेत 12 जिलों मथुरा, अलीगढ़, एटा, फिरोजाबाद, मैनपुरी, इटावा, जालौन, झांसी, ललितपुर, हाथरस और कासगंज के युवा शामिल हो रहे हैं। इसके लिए 1,75,219 युवाओं ने पंजीकरण कराया है।

पहले दिन कासगंज और ललितपुर जिले के युवाओं ने अग्निवीर बनने के लिए दौड़ लगाई। देर रात 12 बजे के बाद से युवाओं को भर्ती स्थल पर प्रवेश दिया गया। अलसुबह से भर्ती प्रक्रिया शुरू हो गई। दोनों जिलों के 7,129 अभ्यर्थियों ने पहले दिन उपस्थित होने के लिए पंजीकरण कराया था। इनमें से 5,170 अभ्यर्थियों ने दौड़ लगाई, जबकि 1,959 अभ्यर्थी उपस्थित नहीं हुए। अग्निपथ योजना के तहत हो रही भर्ती में सामान्य ड्यूटी और तकनीकी ट्रेडों के लिए युवाओं से जबरदस्त उत्साह नजर आया।  भर्ती को लेकर पुलिस-प्रशासन के अलावा सेना ने पुख्ता व्यवस्थाएं की हैं। 

सेना भर्ती रैली को एसएसपी प्रभाकर चौधरी के नेतृत्व में और आगरा कैंट के स्टेशन कमांडर ब्रिगेडियर रजनीश मोहन से भारी सहयोग मिला। नागरिक प्रशासन ने रैली में आने वाले उम्मीदवारों के लिए आवश्यक प्रशासनिक व्यवस्था की। मोबाइल शौचालय, पीने के पानी और उम्मीदवारों को आने-जाने के लिए बसों की व्यवस्था शामिल है। भीड़ नियंत्रण के लिए उपाय भी किए गए हैं।

भर्ती शुरू होने से पहले उम्मीदवारों को अनुचित साधनों को अपनाने, नकली दस्तावेज लाने, दलालों द्वारा गुमराह होने से बचने और प्रवेश पत्र के साथ छेड़छाड करने से बचने के लिए आगाह किया गया। 

अभ्यर्थियों को बताया गया कि नियमों का उल्लंघन करने पर भविष्य में सेना भर्ती के लिए उनकी उम्मीदवारी रद कर दी जाएगी। परीक्षा से वंचित कर दिया जाएगा। 

भर्ती शुरू होने से पहले सेना भर्ती कार्यालय द्वारा पात्रता और अन्य मानदंडों को शामिल करते हुए अग्निपथ योजना पर एक व्यापक आउटरीच कार्यक्रम भी चलाया गया था।