Corbett National Park Man-eater Tigress Caught In Corbett Uttarakhand News – Corbett National Park: आदमखोर निकली कॉर्बेट में पकड़ी गई बाघिन, एक व्यक्ति को उतार दिया था मौत के घाट

Corbett National Park Man-eater Tigress Caught In Corbett Uttarakhand News – Corbett National Park: आदमखोर निकली कॉर्बेट में पकड़ी गई बाघिन, एक व्यक्ति को उतार दिया था मौत के घाट


bthhavagaugdhha taigara rajarava ma bghana ka mata fail fata 1651232087 - Corbett National Park Man-eater Tigress Caught In Corbett Uttarakhand News - Corbett National Park: आदमखोर निकली कॉर्बेट में पकड़ी गई बाघिन, एक व्यक्ति को उतार दिया था मौत के घाट

बाघिन
– फोटो : सोशल मीडिया

ख़बर सुनें

कॉर्बेट नेशनल पार्क में पकड़ी गई बाघिन आदमखोर निकली। इसके अलावा एक अन्य घटना में मारे गए व्यक्ति को किस बाघ ने मारा था, इसकी अभी पुष्टि नहीं हो पाई है। पीसीसीएफ वाइल्ड लाइफ वार्डन डॉ.समीर सिन्हा ने बताया कि कॉर्बेट नेशनल पार्क में इसी साल जून में 15 तारीख को बाघ के हमले में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी।

जबकि 15 तारीख को एक अन्य हमले में एक व्यक्ति घायल हो गया था। घटनास्थल पर मौजूद साक्ष्यों और कैमरा ट्रैप के आधार पर एक बाघिन को चिह्नित किया गया था। घटना के बाद आठ जुलाई को ट्रेंकुलाइज कर एक बाघिन को पकड़ा गया था। बाघिन और मारे गए व्यक्ति व घायल व्यक्ति के डीएनए सैंपल जांच के लिए हैदराबाद स्थित सीएसआईआर लैब भेजे गए थे।

ये भी पढ़ें…Exclusive: उत्तराखंड लोक सेवा आयोग की भर्तियों में निशुल्क आवेदन और आयु में मिल सकती है छूट

संस्थान से रिपोर्ट प्राप्त होने के बाद इस बात की पुष्टि हो गई है कि दोनों ही घटनाओं के लिए पकड़ी गई बाघिन जिम्मेदार थी। पीसीसीएफ वाइल्ड लाइफ वार्डन ने बताया कि वहीं एक अन्य घटना 16 जुलाई को रामनगर वन प्रभाग की कोसी रेंज में घटित हुई थी। जिसमें बाघ के हमले में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। इस घटना के भी सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं, इसकी रिपोर्ट आनी अभी बाकी है।

विस्तार

कॉर्बेट नेशनल पार्क में पकड़ी गई बाघिन आदमखोर निकली। इसके अलावा एक अन्य घटना में मारे गए व्यक्ति को किस बाघ ने मारा था, इसकी अभी पुष्टि नहीं हो पाई है। पीसीसीएफ वाइल्ड लाइफ वार्डन डॉ.समीर सिन्हा ने बताया कि कॉर्बेट नेशनल पार्क में इसी साल जून में 15 तारीख को बाघ के हमले में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी।

जबकि 15 तारीख को एक अन्य हमले में एक व्यक्ति घायल हो गया था। घटनास्थल पर मौजूद साक्ष्यों और कैमरा ट्रैप के आधार पर एक बाघिन को चिह्नित किया गया था। घटना के बाद आठ जुलाई को ट्रेंकुलाइज कर एक बाघिन को पकड़ा गया था। बाघिन और मारे गए व्यक्ति व घायल व्यक्ति के डीएनए सैंपल जांच के लिए हैदराबाद स्थित सीएसआईआर लैब भेजे गए थे।

ये भी पढ़ें…Exclusive: उत्तराखंड लोक सेवा आयोग की भर्तियों में निशुल्क आवेदन और आयु में मिल सकती है छूट

संस्थान से रिपोर्ट प्राप्त होने के बाद इस बात की पुष्टि हो गई है कि दोनों ही घटनाओं के लिए पकड़ी गई बाघिन जिम्मेदार थी। पीसीसीएफ वाइल्ड लाइफ वार्डन ने बताया कि वहीं एक अन्य घटना 16 जुलाई को रामनगर वन प्रभाग की कोसी रेंज में घटित हुई थी। जिसमें बाघ के हमले में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। इस घटना के भी सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं, इसकी रिपोर्ट आनी अभी बाकी है।