CUET Topper Patna Salvi got 782 marks full marks in 3 subjects want admission in DU

CUET Topper Patna Salvi got 782 marks full marks in 3 subjects want admission in DU





CUET : नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) ने कॉमन यूनिवर्सिटी इंट्रेंस टेस्ट (सीयूईटी) का रिजल्ट जारी कर दिया है। सीयूईटी स्कोर के आधार पर छात्र विश्वविद्यालयों के स्नातक पाठ्यक्रम और अपनी पसंद के विषय के लिए आवेदन कर सकेंगे। पटना की एक छात्रा साल्वी रानी को 800 अंकों की परीक्षा में 782.5 अंक प्राप्त हुए हैं। उम्मीद है कि वह पटना की टॉपर है। साल्वी को इतिहास, राजनीति विज्ञान व समाजशास्त्रत्त् विषय में दो सौ अंकों की परीक्षा में दो सौ अंक मिले हैं। अंग्रेजी विषय में 200 में 182.5 अंक मिले हैं। वहीं साल्वी को इंटर आर्ट्स में 98.4 प्रतिशत अंक मिले थे। उसका सपना दिल्ली यूनिवर्सिटी में नामांकन लेने का है।

इस रिजल्ट के माध्यम से दक्षिण बिहार केन्द्रीय विश्वविद्यालय (सीयूएसबी) व महात्मा गांधी सेंट्रल यूनिवर्सिटी मोतिहारी में यूजी में एडमिशन ले सकते हैं। कई विश्वविद्यालयों ने नामांकन के लिए रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया ऑनलाइन शुरू कर दी है। सीयूईटी 2022 के लिए बिहार से 25 हजार से अधिक आवेदन प्राप्त हुए थे। यूजीसी ने कहा है कि सीयूईटी के लिए कोई केन्द्रीयकृत काउंसिलिंग नहीं होगी। सीयूईटी स्कोर के आधार पर विश्वविद्यालयों में आवेदन करना होगा।

प्रत्येक विवि अपने स्वयं के कटऑफ कॉलेज वार और सिलेबस के अनुसार जारी करेगा। विश्वविद्यालय द्वारा जारी कट ऑफ में आने के बाद नामांकन हो जाएगा। विश्वविद्यालय अपने स्तर पर सूची तैयार करेगा। सभी विश्वविद्यालयों को सीयूईटी स्कोर का एक्सेस नेशनल टेस्टिंग के पोर्टल से दे दिया गया है। इसलिए एनटीए सीयूईटी यूजी 2022 परिणाम के साथ न तो कोई मेरिट सूची जारी करेगा और न ही कट-ऑफ, यानी कोई टॉपर नहीं होगा। छात्र सीयूईटी के जरिए देश के 86 विश्वविद्यालयों में नामांकन ले सकते हैं। इनमें सेंट्रल यूनिवर्सिटी, डीम्ड विश्वविद्यालय, प्राइवेट विश्वविद्यालय और स्टेट विश्वविद्यालय शामिल हैं। दिल्ली विश्वविद्यालय के साथ सभी विश्वविद्यालय अपनी अलग काउंसिलिंग आयोजित करेंगे।

CUET स्कोर से 90 यूनिवर्सिटी में मिलेगा दाखिला लेकिन सिर्फ इन 14 की है रैंकिंग, देखें लिस्ट

देश की दूसरी बड़ी प्रवेश परीक्षा है सीयूईटी

सीयूईटी के लिए 14.9 लाख परीक्षार्थियों ने पंजीकरण कराया था। इसके साथ ही यह नीट-यूजी (राष्ट्रीय प्रवेश पात्रता परीक्षा-परास्नातक) के बाद देश की सबसे बड़ी दाखिला परीक्षा बन गई है। नीट-यूजी के लिए औसतन 18 लाख छात्र पंजीकरण कराते हैं। सीयूईटी-यूजी ने जेईई-मेन को पीछे छोड़ दिया है, जिसके लिए औसतन नौ लाख पंजीकरण होते हैं।