Hindi Diwas 2022 Hindi Language Spoken In These Foreign Countries Including India – हिंदी दिवस 2022: भारत ही नहीं दुनिया के इन देशों में गर्व से बोली जाती है हिंदी भाषा

Hindi Diwas 2022 Hindi Language Spoken In These Foreign Countries Including India – हिंदी दिवस 2022: भारत ही नहीं दुनिया के इन देशों में गर्व से बोली जाती है हिंदी भाषा


हिंदी दिवस 2022: भारत में हर साल 14 सितंबर को राष्ट्रीय हिंदी दिवस मनाया जाता है। हिंदी भारत के अधिकतर नागरिकों की मातृभाषा है। हिंदी भारत की पहचान है, जो दुनियाभर में बसे हिंदी भाषी लोगों को एकजुट करती है। हालांकि पिछले कुछ वर्षों में अंग्रेजी भाषा का चलन और लोकप्रियता बढ़ी है। भारत में लोग हिंदी से ज्यादा अंग्रेजी भाषा बोलना पसंद करने लगे हैं। हिंदी के प्रचार प्रसार और लोगों को हिंदी भाषा के प्रति जागरूक करने के लिए हिंदी दिवस मनाए जाने की शुरुआत हुई। हिंदी भारत की राजभाषा है लेकिन केवल भारत में ही नहीं, दुनिया के कई अन्य देशों में भी हिंदी गर्व से बोली जाती है। हिंदी दिवस के मौके पर उन विदेशी जगहों के बारे में जानें, जहां जाने पर आपको भाषा की समस्या नहीं होगी। दुनिया के कई ऐसे देश हैं जहां गर्व से हिंदी भाषा बोली जाती है। जानिए भारत के अलावा हिंदी भाषी देशों के बारे में।

नेपाल

भारत के पड़ोसी देश नेपाल दूसरा सबसे बड़ा समूह है, जहां हिंदी भाषी लोग मिल जाएंगे। नेपाल में आठ मिलियन लोग हिंदी बोलते हैं। हालांकि बड़ी आबादी के हिंदी बोलने के बाद भी नेपाल में आधिकारिक भाषा के तौर पर हिंदी को मान्यता नहीं मिली है। लेकिन साल 2016 में नेपाली सांसदों ने हिंदी को राष्ट्रभाषा के तौर पर शामिल करने की मांग जरूर उठाई थी।

संयुक्त राज्य अमेरिका

ये जानकर आश्चर्य होगा कि अमेरिका जैसा देश, जिसे अंग्रेजी भाषा माना जाता है, वह हिंदी भाषी लोगों का तीसरा सबसे बड़ा समूह है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, यहां लगभग 6 लाख से ज्यादा लोग हिंदी भाषा बोलते हैं। हालांकि अंग्रेजी का वर्चस्व होने के कारण लोग अपने घरों में ही हिंदी का इस्तेमाल करते हैं। हिंदी भाषा बोलने वाले अधिकांश लोग भारत के अप्रवासी हैं। अमेरिका में हिंदू 11वीं सबसे लोकप्रिय भाषा है।

मॉरीशस

घूमने के लिए भारत से हर साल पर्यटन मॉरीशस जाते हैं। अगर मॉरीशस की भाषा पर नजर डालें तो एक तिहाई लोग यहां हिंदी भाषा बोलते हैं। अंग्रेजी और फ्रेंच मॉरीशस में संसद की आधिकारिक भाषा हैं। अधिकांश मॉरीशस के लोग मूल भाषा के रूप में क्रियोल बोलते हैं। 

फिजी

फिजी में भी हिंदी भाषा का चलन है। यहां भारतीय मजदूरों के आने के बाद से हिंदी का चलन बढ़ा। दरअसल, फिजी में उत्तर पूर्वी भारत से लोग आए हैं जो अवधी, भोजपुरी और मगही बोलते हैं। इसके अलावा उर्दू भी भाषा से जुड़ी होती है। इस सभी भाषाओं को मिलाकर एक नई भाषा का निर्माण हुआ, जिसे फिजी बाट कहा जाने लगा।