National Bravery Award 2022: You Can Apply For Award In Child Welfare Council Till October 10 – National Bravery Award 2022: बाल कल्याण परिषद में पुरस्कार के लिए 10 अक्तूबर तक कर सकते हैं आवेदन

National Bravery Award 2022: You Can Apply For Award In Child Welfare Council Till October 10 – National Bravery Award 2022: बाल कल्याण परिषद में पुरस्कार के लिए 10 अक्तूबर तक कर सकते हैं आवेदन


application 1653990224 - National Bravery Award 2022: You Can Apply For Award In Child Welfare Council Till October 10 - National Bravery Award 2022: बाल कल्याण परिषद में पुरस्कार के लिए 10 अक्तूबर तक कर सकते हैं आवेदन

आवेदन
– फोटो : प्रतीकात्मक तस्वीर

ख़बर सुनें

राज्य बाल कल्याण परिषद ने राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार 2022 के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं। परिषद की महासचिव पुष्पा मानस के मुताबिक छह से 18 वर्ष आयु वर्ग के ऐसे बच्चों के 10 अक्तूबर तक आवेदन जमा किए जा सकते हैं, जिसने एक जुलाई 2021 से 30 सितंबर 2022 तक वीरता और साहसिक कार्य किया हो। 

महिला होमगार्ड की बहादुरी: मोबाइल फोन छीनकर भाग रहे चाेर को पुल से छलांग लगाकर पकड़ा, एसएसपी ने किया सम्मानित

बाल कल्याण परिषद की महासचिव की ओर से प्रदेश के सभी मुख्य शिक्षा अधिकारियों को लिखे पत्र में कहा गया है कि परिषद को बहादुर बालक, बालिकाओं के नाम भेजे जा सकते हैं। परिषद की ओर से कहा गया है कि साधारण घटनाओं को वीरता की श्रेणी में नहीं माना जाएगा। अपूर्ण प्रकरण मंजूर नहीं किए जाएंगे। आवेदन के साथ साहसी बालक, बालिका की दो फोटो, जन्मतिथि प्रमाणपत्र, साहसिक कार्य से संबंधित 250 शब्दों की रिपोर्ट आदि की जानकारी देनी होगी। 

15 बच्चों को मिल चुका है राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार 

बाल कल्याण परिषद के संयुक्त सचिव कमलेश्वर प्रसाद भट्ट के मुताबिक राज्य के 15 बच्चों को अब तक राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार मिल चुका है।

विस्तार

राज्य बाल कल्याण परिषद ने राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार 2022 के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं। परिषद की महासचिव पुष्पा मानस के मुताबिक छह से 18 वर्ष आयु वर्ग के ऐसे बच्चों के 10 अक्तूबर तक आवेदन जमा किए जा सकते हैं, जिसने एक जुलाई 2021 से 30 सितंबर 2022 तक वीरता और साहसिक कार्य किया हो। 

महिला होमगार्ड की बहादुरी: मोबाइल फोन छीनकर भाग रहे चाेर को पुल से छलांग लगाकर पकड़ा, एसएसपी ने किया सम्मानित

बाल कल्याण परिषद की महासचिव की ओर से प्रदेश के सभी मुख्य शिक्षा अधिकारियों को लिखे पत्र में कहा गया है कि परिषद को बहादुर बालक, बालिकाओं के नाम भेजे जा सकते हैं। परिषद की ओर से कहा गया है कि साधारण घटनाओं को वीरता की श्रेणी में नहीं माना जाएगा। अपूर्ण प्रकरण मंजूर नहीं किए जाएंगे। आवेदन के साथ साहसी बालक, बालिका की दो फोटो, जन्मतिथि प्रमाणपत्र, साहसिक कार्य से संबंधित 250 शब्दों की रिपोर्ट आदि की जानकारी देनी होगी। 

15 बच्चों को मिल चुका है राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार 

बाल कल्याण परिषद के संयुक्त सचिव कमलेश्वर प्रसाद भट्ट के मुताबिक राज्य के 15 बच्चों को अब तक राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार मिल चुका है।