Uttarakhand News: Assembly Recruitment And Promotion Rules Will Be Strict Now – Uttarakhand: जांच पर सवाल उठाने वालों को स्पीकर की हिदायत, कहा- विधानसभा की गरिमा पर राजनीति बर्दाश्त नहीं

Uttarakhand News: Assembly Recruitment And Promotion Rules Will Be Strict Now – Uttarakhand: जांच पर सवाल उठाने वालों को स्पीकर की हिदायत, कहा- विधानसभा की गरिमा पर राजनीति बर्दाश्त नहीं


ख़बर सुनें

उत्तराखंड विधानसभा में भर्तियों और पदोन्नतियों को लेकर नियम सख्त बनाए जाएंगे, जिससे विधानसभा की गरिमा बनीं रहे। यह बात स्पीकर ऋतु खंडूड़ी भूषण ने कही। उन्होंने भर्तियों की जांच पर सवाल उठाने वालों को हिदायत दी, कहा कि विधानसभा की गरिमा के खिलाफ राजनीति बर्दाश्त नहीं करुंगी। 

सोमवार को मीडिया से बातचीत में विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी ने कांग्रेस की ओर से विशेषज्ञ समिति से जांच पर सवाल उठाने के सवाल पर कहा कि विधानसभा में भर्तियों की जांच हो रही है। सक्षम अधिकारियों को समिति में रखा गया है, जो नियमों के ज्ञाता हैं। सोच समझ कर विशेषज्ञ समिति गठित की गई। समिति को जांच रिपोर्ट के लिए एक माह का समय दिया गया। विधानसभा सचिवालय के अधिकारी समिति को जांच में पूरा सहयोग कर रहे हैं। उम्मीद है कि जल्द ही समिति अंतरिम रिपोर्ट देगी। 

Uttarakhand: धामी कैबिनेट में हो सकता है बड़ा फेरबदल, हाईकमान ने मांगी मंत्रियों और विधायकों की रिपोर्ट

उन्होंने कहा कि विधानसभा को लोकतंत्र का मंदिर माना जाता है। इसकी गरिमा के खिलाफ किसी भी तरह की राजनीति बर्दाश्त नहीं करुंगी और न ही पंसद है। उन्होंने राजनीतिक दलों के नेताओं से आग्रह किया कि वह बयानबाजी न करें। विधानसभा की गरिमा को ध्यान में रख कर ही बयान दें। 

उन्होंने कहा कि भर्तियों की जांच पर सवाल उठाना ठीक है। भर्तियों को लेकर शिकायतें सामने आई हैं, जिसकी जांच की जा रही है। नेताओं को राजनीति से ऊपर उठ कर उत्तराखंड की बात करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जांच रिपोर्ट आने के बाद ही निर्णय लिए जाएंगे। किसी भी संस्थान की गरिमा तभी होती है, जब नियम और कानून का उल्लंघन नहीं होता है। आने वाले समय में विधानसभा में भर्ती व पदोन्नति को लेकर नियम सख्त बनाए जाएंगे। 

सोशल मीडिया पर रिपोर्ट सौंपने की बात अफवाह
सोशल मीडिया पर विशेषज्ञ समिति की ओर से भर्तियों की जांच रिपोर्ट सौंपने को विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी भूषण ने अफवाह बताया। उन्होंने कहा कि समिति ने अभी उन्हें कोई रिपोर्ट नहीं दी है। विशेषज्ञ समिति को भर्तियों और पदोन्नतियों की जांच कर एक माह में रिपोर्ट देने का समय दिया गया था। उन्होंने स्पष्ट किया कि जब भी जांच समिति उन्हें रिपोर्ट देगी, उसकी जानकारी विधिवत रूप से मीडिया को दी जाएगी।

विस्तार

उत्तराखंड विधानसभा में भर्तियों और पदोन्नतियों को लेकर नियम सख्त बनाए जाएंगे, जिससे विधानसभा की गरिमा बनीं रहे। यह बात स्पीकर ऋतु खंडूड़ी भूषण ने कही। उन्होंने भर्तियों की जांच पर सवाल उठाने वालों को हिदायत दी, कहा कि विधानसभा की गरिमा के खिलाफ राजनीति बर्दाश्त नहीं करुंगी। 

सोमवार को मीडिया से बातचीत में विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी ने कांग्रेस की ओर से विशेषज्ञ समिति से जांच पर सवाल उठाने के सवाल पर कहा कि विधानसभा में भर्तियों की जांच हो रही है। सक्षम अधिकारियों को समिति में रखा गया है, जो नियमों के ज्ञाता हैं। सोच समझ कर विशेषज्ञ समिति गठित की गई। समिति को जांच रिपोर्ट के लिए एक माह का समय दिया गया। विधानसभा सचिवालय के अधिकारी समिति को जांच में पूरा सहयोग कर रहे हैं। उम्मीद है कि जल्द ही समिति अंतरिम रिपोर्ट देगी। 

Uttarakhand: धामी कैबिनेट में हो सकता है बड़ा फेरबदल, हाईकमान ने मांगी मंत्रियों और विधायकों की रिपोर्ट

उन्होंने कहा कि विधानसभा को लोकतंत्र का मंदिर माना जाता है। इसकी गरिमा के खिलाफ किसी भी तरह की राजनीति बर्दाश्त नहीं करुंगी और न ही पंसद है। उन्होंने राजनीतिक दलों के नेताओं से आग्रह किया कि वह बयानबाजी न करें। विधानसभा की गरिमा को ध्यान में रख कर ही बयान दें। 

उन्होंने कहा कि भर्तियों की जांच पर सवाल उठाना ठीक है। भर्तियों को लेकर शिकायतें सामने आई हैं, जिसकी जांच की जा रही है। नेताओं को राजनीति से ऊपर उठ कर उत्तराखंड की बात करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जांच रिपोर्ट आने के बाद ही निर्णय लिए जाएंगे। किसी भी संस्थान की गरिमा तभी होती है, जब नियम और कानून का उल्लंघन नहीं होता है। आने वाले समय में विधानसभा में भर्ती व पदोन्नति को लेकर नियम सख्त बनाए जाएंगे। 

सोशल मीडिया पर रिपोर्ट सौंपने की बात अफवाह

सोशल मीडिया पर विशेषज्ञ समिति की ओर से भर्तियों की जांच रिपोर्ट सौंपने को विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी भूषण ने अफवाह बताया। उन्होंने कहा कि समिति ने अभी उन्हें कोई रिपोर्ट नहीं दी है। विशेषज्ञ समिति को भर्तियों और पदोन्नतियों की जांच कर एक माह में रिपोर्ट देने का समय दिया गया था। उन्होंने स्पष्ट किया कि जब भी जांच समिति उन्हें रिपोर्ट देगी, उसकी जानकारी विधिवत रूप से मीडिया को दी जाएगी।