Yamunotri Highway: Nhai Will Built Double Lane Tunnel At Dabarkot – Yamunotri Highway: भूस्खलन जोन ओजरी डाबरकोट में बनेगी डबल लेन सुरंग, हाईवे पर यात्रियों की राह होगी आसान

Yamunotri Highway: Nhai Will Built Double Lane Tunnel At Dabarkot – Yamunotri Highway: भूस्खलन जोन ओजरी डाबरकोट में बनेगी डबल लेन सुरंग, हाईवे पर यात्रियों की राह होगी आसान


ख़बर सुनें

यमुनोत्री हाईवे पर अब भूस्खलन जोन ओजरी डाबरकोट यात्रियों की राह नहीं रोक पाएगा। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) भूस्खलन जोन में डबल लेन सुरंग बनाने जा रहा है। इसके लिए चारधाम सड़क परियोजना में तीन किलोमीटर सुरंग के एलाइनमेंट की अनुमति मिल गई है। इसके बाद एनएचएआई ने प्रस्तावित सुरंग निर्माण के लिए डीपीआर तैयार करने की कार्रवाई शुरू कर दी है। 

Char Dham Yatra: बारिश कम होते ही धामों में उमड़ने लगी भीड़, दिनभर लगा रहा श्रद्धालुओं का तांता, तस्वीरें

यमुनोत्री हाईवे पर ओजरी डाबरकोट भूस्खलन जोन वर्ष 2017 से नासूर बना हुआ है। सितंबर 2017 में यहां करीब 52 दिन तक यमुनोत्री धाम की यात्रा प्रभावित रही थी। वर्तमान समय में यहां हल्की बारिश में भी मलबा व बोल्डर गिरने से आवाजाही बाधित हो जाती है जिसके चलते तीर्थयात्रियों के साथ स्थानीय लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

Rishikesh-Gangotri Highway: मलबा आने से रत्नोगाड़ में रास्ता बंद, वाहनों की लगी लंबी कतार, 250 लोग फंसे

अब भूस्खलन जोन से निजात के लिए यहां डबल लेन सुरंग निर्माण के प्रयास शुरू हुई है। एनएच के अधिकारियों ने बताया कि सुरंग के सर्वे की कार्रवाई पूरी कर ली गई है जिसके बाद डीपीआर तैयार करने की कार्रवाई की जा रह है। दो-तीन माह में डीपीआर का निरीक्षण करने के बाद भूमि अधिग्रहण की कार्रवाई शुरू होगी। सुरंग बनने से भूस्खलन जोन की समस्या खत्म हो जाएगी। 

डेढ़ दर्जन गांवों को भुगतना पड़ता है खामियाजा

यमुनोत्री हाईवे पर ओजरी डाबरकोट भूस्खलन जोन का स्थाई समाधान नहीं होने का खामियाजा ओजरी व गीठ पट्टी के करीब डेढ़ दर्जन गांवों को भी भुगतना पड़ता है। लोनिवि यहां वैकल्पिक मार्ग के नाम पर करीब एक करोड़ खर्च कर चुकी है लेकिन उस पर कभी आवाजाही नहीं हो सकी। वर्ष 2018 में गंगनाणी मेले में तत्कालीन सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने वैकल्पिक मोटरमार्ग की घोषणा की थी। यह घोषणा भी धरातल में नहीं उतर पाई। अब विभाग साढ़े चार किमी का वैकल्पिक मार्ग ओजरी तिर्खली कुनसाला से स्यानाचट्टी में यमुनोत्री हाईवे से जोड़ने की बात कह रहा है। संवाद

डाबरकोट में प्रस्तावित डबल लेन सुरंग निर्माण के लिए दिसंबर 2022 तक डीपीआर तैयार करने का लक्ष्य रखा गया है जिसके बाद डीपीआर को मंजूरी मिलने की उम्मीद है। डीपीआर को मंजूरी मिलते ही टेंडर प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। 
– राजेश पंत, अधिशासी अभियंता एनएच।

विस्तार

यमुनोत्री हाईवे पर अब भूस्खलन जोन ओजरी डाबरकोट यात्रियों की राह नहीं रोक पाएगा। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) भूस्खलन जोन में डबल लेन सुरंग बनाने जा रहा है। इसके लिए चारधाम सड़क परियोजना में तीन किलोमीटर सुरंग के एलाइनमेंट की अनुमति मिल गई है। इसके बाद एनएचएआई ने प्रस्तावित सुरंग निर्माण के लिए डीपीआर तैयार करने की कार्रवाई शुरू कर दी है। 

Char Dham Yatra: बारिश कम होते ही धामों में उमड़ने लगी भीड़, दिनभर लगा रहा श्रद्धालुओं का तांता, तस्वीरें

यमुनोत्री हाईवे पर ओजरी डाबरकोट भूस्खलन जोन वर्ष 2017 से नासूर बना हुआ है। सितंबर 2017 में यहां करीब 52 दिन तक यमुनोत्री धाम की यात्रा प्रभावित रही थी। वर्तमान समय में यहां हल्की बारिश में भी मलबा व बोल्डर गिरने से आवाजाही बाधित हो जाती है जिसके चलते तीर्थयात्रियों के साथ स्थानीय लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

Rishikesh-Gangotri Highway: मलबा आने से रत्नोगाड़ में रास्ता बंद, वाहनों की लगी लंबी कतार, 250 लोग फंसे

अब भूस्खलन जोन से निजात के लिए यहां डबल लेन सुरंग निर्माण के प्रयास शुरू हुई है। एनएच के अधिकारियों ने बताया कि सुरंग के सर्वे की कार्रवाई पूरी कर ली गई है जिसके बाद डीपीआर तैयार करने की कार्रवाई की जा रह है। दो-तीन माह में डीपीआर का निरीक्षण करने के बाद भूमि अधिग्रहण की कार्रवाई शुरू होगी। सुरंग बनने से भूस्खलन जोन की समस्या खत्म हो जाएगी।